APJ Abdul Kalam Biography in Hindi: एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

एपीजे अब्दुल कलाम, जिन्हें “भारत के मिसाइल मैन” के नाम से जाना जाता है, एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और भारत के 11वें राष्ट्रपति थे। तमिलनाडु के एक छोटे से शहर से भारतीय इतिहास में सबसे प्रसिद्ध व्यक्तियों में से एक बनने तक की उनकी उल्लेखनीय यात्रा लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत है। यह लेख APJ Abdul Kalam Biography in Hindi और उपलब्धियों पर प्रकाश डालता है, विज्ञान, शिक्षा और भारत के लिए उनके दृष्टिकोण में उनके योगदान पर प्रकाश डालता है।

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi Overview

विवरणजानकारी
पूरा नामअवुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम
प्रसिद्ध नामडॉ. एपीजे अब्दुल कलाम
जन्म तिथि15 अक्टूबर 1931
जन्म स्थानधनुषकोडी, रामेश्वरम, तमिलनाडु
पिता का नामजैनुलाब्दीन कलाम
माता का नामआशियम्मा
पिता का पेशामस्जिद में इमाम
परिवारचार बेटे और एक बेटी (एपीजे अब्दुल कलाम सबसे छोटे)
निवास स्थानरामेश्वरम शहर, तमिलनाडु

एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म और परिवार

15 अक्टूबर 1931 को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म तमिलनाडु के धनुषकोडी गांव में एक मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ था, जो रामेश्वरम से लगभग 20 किलोमीटर दूर स्थित है। उनका पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था; अब वे डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से जाने जाते हैं। जैनुलाब्दीन कलाम उनके पिता थे और आशिअम्मा उनकी मां थीं। एक मस्जिद में उनके पिता इमाम थे। इसके अलावा, उनके पास अपनी खुद की एक नाव भी थी। जैनुलाब्दीन कलाम की एक बेटी और चार बेटे थे। समूह के सबसे छोटे बेटे एपीजे अब्दुल कलाम थे। वे अपने पूरे परिवार के साथ रामेश्वरम शहर में रहते थे।

एपीजे अब्दुल कलाम का प्रारंभिक जीवन

डॉ. अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम, एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम है। 15 अक्टूबर, 1931 को उनका जन्म तमिलनाडु के रामेश्वरम गांव में जैनुलाब्दीन कलाम के परिवार में हुआ था। जबकि उनके पिता कई तरह की नौकरियाँ करते थे, लेकिन लोगों को समुद्र तटों के बीच पहुँचाना उनका सबसे ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने वाला काम था। इसके अलावा उनकी माँ आशिअम्मा एक आम गृहिणी थीं।

कलाम जी के अनुसार, उनके पिता ने कोई भौतिक उपलब्धि हासिल नहीं की। हालाँकि उनके पिता के पास भौतिक संपदा और औपचारिक शिक्षा का अभाव था, लेकिन उनका दिमाग बहुत तेज था। तमिल की आम भाषा में, वे कुछ ग्रामीण मित्रों के साथ सबसे महत्वपूर्ण आध्यात्मिक मुद्दों पर काम करते थे। कलाम जी का दावा है कि एक महान वैज्ञानिक बनने की चाह में, उन्होंने हमेशा अपने पिता के मूल्यों का पालन करने का प्रयास किया है।

अब्दुल कलाम जी का बचपन

अब्दुल कलाम जी अपनी आत्मकथा विंग्स ऑफ फायर में लिखते हैं कि उनका पालन-पोषण भावनात्मक और भौतिक दोनों ही तरह से बहुत सुरक्षित तरीके से हुआ। उनका दावा है कि उनकी माँ ने उन्हें खुद पर भरोसा रखना और सच्चाई के रास्ते पर चलना सिखाया और उन्हें अपने पिता से आत्म-अनुशासन मिला।

जब अब्दुल कलाम जी को अपनी पढ़ाई के लिए काम करना पड़ा, तब उनकी उम्र सिर्फ़ दस साल थी। उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अंदाज़ा नहीं था कि उस समय नौकरी कैसे मिलेगी या किस काम के लिए कितना पैसा मिलेगा। यह द्वितीय विश्व युद्ध का दौर था।

ट्रेन को जल्दी से जल्दी गंतव्य पर पहुंचाने के लिए रामेश्वरम में उसका स्टॉपेज रोक दिया गया। नतीजतन, चलती ट्रेन से बंडलों में अखबार फेंके जाने लगे। एक अखबार विक्रेता से उनकी दोस्ती थी। अपनी अनिच्छा के बावजूद कलाम जी ने उसे इधर-उधर घूमकर अखबार इकट्ठा करने का काम सौंप दिया। और इससे उन्हें पैसे मिलने लगे। इसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी करने और 12वीं कक्षा का डिप्लोमा हासिल करने के लिए कई जगहों पर और कई प्रोजेक्ट पर काम किया।

एपीजे अब्दुल कलाम एक वैज्ञानिक के रूप में

1960 के दशक में, अपनी डिग्री प्राप्त करने के बाद, उन्होंने DRDO के वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान में एक वैज्ञानिक के रूप में काम किया, जहाँ उन्हें होवरक्राफ्ट बनाने का काम सौंपा गया था। वे 1969 में इसरो में शामिल हुए और एक परियोजना निदेशक के रूप में, उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इसरो में परियोजना निदेशक के रूप में कार्यरत रहते हुए उन्होंने भारत के पहले SLV-III (सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। रोहिणी सैटेलाइट ने 1980 में एक सफल उड़ान भरी। इस मिशन की सफलता के लिए उनकी सहायता आवश्यक थी। उन्होंने कई अन्य मिशनों के लिए मिसाइलों का निर्माण करते हुए परमाणु और मिसाइल उद्योगों में भारत की प्रतिष्ठा में सुधार किया।

उन्होंने 1992 से 1999 तक DRDO के सचिव के रूप में काम किया। इसके अलावा, उन्होंने प्रधानमंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में भी काम किया। 1998 में दूसरे परमाणु परीक्षण के सफल समापन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। उस समय के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने घोषणा की थी कि भारत एक परमाणु रूप से उन्नत राष्ट्र है। अग्नि और पृथ्वी मिसाइलों जैसे महत्वपूर्ण मिसाइल कार्यक्रमों में उनकी भागीदारी के कारण उन्हें DRDO में “मिसाइल मैन” कहा जाता था।

एपीजे अब्दुल कलाम को प्राप्त पुरस्कार

वर्षसम्मान / पुरस्कारप्रस्तुतकर्ता
1981पद्म भूषणभारत सरकार
1990पद्म विभूषणभारत सरकार
1997भारत रत्नभारत सरकार
1998‘वीर सावरकर’ पुरस्कारभारत सरकार
2000रामानुजन पुरस्कारअल्वार रिसर्च सेंटर, चेन्नई
2007किंग चार्ल्स द्वितीय पदकब्रिटेन की रॉयल सोसाइटी
2008डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंग की उपाधिनानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, सिंगापुर
2009इंटरनेशनल वॉन कर्मन विंग्स अवार्डकैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, यूएसए
2008हूवर मेडलअमेरिका
2010डॉक्टर ऑफ इंजीनियरिंग की उपाधिवाटरलू विश्वविद्यालय, कनाडा
2011मानद सदस्यIEEE
2012डॉक्टर ऑफ लॉ की उपाधिसाइमन फ्रेजर विश्वविद्यालय, कनाडा
2013वॉन ब्रौन पुरस्कारनेशनल स्पेस सोसाइटी, यूएसए
2014डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधिएडिनबर्ग विश्वविद्यालय, यूके

एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा लिखित पुस्तकें

  • अग्नि की उड़ान
  • अग्नि की राह पर
  • मेरी जीवन यात्रा
  • मेरा सपनों का भारत
  • सृजनशीलता और नेतृत्व
  • एक मुस्कान के साथ जीवन
  • अच्छे बने रहें और बड़े सपने देखें
  • प्रोफेसर एपीजे अब्दुल कलाम
  • बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियाँ

एपीजे अब्दुल कलाम की मृत्यु

27 जुलाई 2015 को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का भारतीय प्रबंधन संस्थान यानी आईआईएम शिलांग में व्याख्यान देते समय अचानक निधन हो गया। डॉ. कलाम का भारत के अंतरिक्ष और विज्ञान उद्योग पर महत्वपूर्ण प्रभाव रहा है। अपने नेतृत्व के दौरान उन्होंने देश को मजबूत किया। उनका सादगी भरा जीवन आज भी सभी के लिए आदर्श है, भले ही वे एक सफल वैज्ञानिक हैं और देश में सर्वोच्च पद पर हैं। इसी वजह से आज भी सभी उन्हें सम्मान देते हैं और आदर्श मानते हैं।

निष्कर्ष

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi, जिनका जीवन प्रेरणा और समर्पण का प्रतीक है, ने विज्ञान और शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। भारतीय मिसाइल कार्यक्रम और राष्ट्रपति के रूप में उनकी उपलब्धियाँ उनकी कड़ी मेहनत और सादगी का प्रमाण हैं। उनका जीवन आज भी लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत है। 

Read more

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *