अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव का जीवन परिचय [ भारतीय सांख्यिकीय सेवा (आईएसएस) टॉपर ] – Astitva Ranjan Srivastava Biography in Hindi

Astitva Ranjan Srivastava Biography in Hindi |अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव का जीवन परिचय [ भारतीय सांख्यिकीय सेवा (आईएसएस) टॉपर : संघ लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित भारतीय सांख्यिकीय सेवा के परिणाम में लविवि के पूर्व छात्र अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव ने पहली रैंक हासिल की है। अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव विश्वविद्यालय के सांख्यिकी विभाग के छात्र रहे हैं। अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव भारतीय सांख्यिकी सेवा के लिए तैयारी की और पहली रैंक हासिल की। उन्होंने कहा कि मैंने सोचा नहीं था कि पहली रैंक मिलेगी। उन्होंने बताया कि गणित में रुचि थी, इसलिए इसी दिशा में कॅरिअर बनाया। अस्तित्व ने कहा कि मन लगाकर तैयारी करें, सफलता जरूरी मिलेगी।

Astitva Ranjan Srivastava Biography in Hindi

तो चलिए जानते हैं Astitva Ranjan Srivastava ISS 2022 Topper Biography in Hindi के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से :-

अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव का जीवन परिचय [ भारतीय सांख्यिकीय सेवा (आईएसएस) टॉपर ]

गोंडा के विष्णुपुरी कालोनी के रहने वाले अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव ने गोंडा से 92.2% अंकों के साथ 12वीं की पढ़ाई की। उसके बाद लखनऊ विश्वविद्यालय से 2018 में बीएससी (गणित, सांख्यिकी) से किया। चार गोल्ड मेडल भी हासिल किए। इसमें गणित में सर्वाधिक अंकों के लिए दो गोल्ड और दो गोल्ड बीएससी में टाप करने के लिए मिले। अस्तित्व बताते हैं कि हॉस्टल के लाल बहादुर शास्त्री और हबीबुल्लाह हास्टल में रहकर पढ़ाई की। 2020 में बीएचयू से एमएससी किया। फिर एक साल ब्रेक लेकर तैयारी की।

Astitva Ranjan Srivastava Biography

Name Astitva Ranjan Srivastava
Home Town GONDA ( UTTAR PARDESH)
Education M.Sc ( BHU) , B. Sc ( Lukhnow University)
Knows For ISS 2022 Topper ( भारतीय सांख्यिकीय सेवा )

Astitva Ranjan Srivastava Biography in Hindi

अस्तित्व रंजन मूल रूप से गोंडा ( उत्तर प्रदेश) के रहने वाले हैं। उन्होंने अपनी इंटर की पढ़ाई वहां से पूरी करने के बाद लविवि से 2018 में बीएससी किया था। अस्तित्व के पिता अजय कुमार श्रीवास्तव टीचर हैं। मां प्रेमलता श्रीवास्तव गृहणी हैं। उन्हें गणित में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने के लिए दो और बीएससी में टॉप करने पर दो गोल्ड मेडल मिले थे। उन्होंने 2020 में बीएचयू से एमएससी किया। फिर आरबीआई में ग्रेड बी अधिकारी की परीक्षा में भी सफल हो गए। लेकिन ज्वॉइन न करके भारतीय सांख्यिकी सेवा के लिए तैयारी की और पहली रैंक हासिल की। उन्होंने कहा कि मैंने सोचा नहीं था कि पहली रैंक मिलेगी। उन्होंने बताया कि गणित में रुचि थी, इसलिए इसी दिशा में कॅरिअर बनाया। अस्तित्व ने कहा कि मन लगाकर तैयारी करें, सफलता जरूरी मिलेगी।

भारतीय सांख्यिकीय सेवा आईएसएस टॉपर 2022 | Astitva Ranjan Srivastava ISS 2022 Topper

अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव ने भारतीय सांख्यिकी सेवा 2022 के लिए तैयारी की और पहली रैंक हासिल की है | इनहोंने तीसरे अटेम्प्ट में मिली सफलताइससे पहले 2 बार यही परीक्षा दे चुके थे और दोनों ही बार वे रिटेन क्वालीफाई करने में कामयाब नही हुए। तीसरे बार न केवल उन्होंने रिटेन और इंटरव्यू परीक्षा क्वालीफाई किया पूरे देश में पहली रैंक हासिल किया।अस्तित्व बताते हैं कि तीसरी बाद में मेरा चयन हुआ है। दोस्तों ने चयनित होने की सूचना दी। मुझे उम्मीद नहीं थी देश में पहली रैंक आ जाएगी। हां, इतना तय था कि चयन हो जाएगा। दिल्ली में रिसर्च कर रहीं बड़ी बहन स्तुति श्रीवास्तव ने इस क्षेत्र में तैयारी के लिए प्रेरित किया।

sushil Kumar Bus driver biography in Hindi

Astitva Ranjan Srivastava Education

  • अस्तित्व रंजन श्रीवास्तव ने गोंडा से 92.2% अंकों के साथ 12वीं की पढ़ाई की। उसके बाद लखनऊ विश्वविद्यालय से 2018 में बीएससी (गणित, सांख्यिकी) से किया। चार गोल्ड मेडल भी हासिल किए। इसमें गणित में सर्वाधिक अंकों के लिए दो गोल्ड और दो गोल्ड बीएससी में टाप करने के लिए मिले।
  • भारतीय रिजर्व बैंक जुलाई 2022 में आफ इंडिया (आरबीआई) में ग्रेड बी – आफीसर्स के लिए परीक्षा दी। चयन हो गया। लेकिन ज्वाइन न करके भारतीय सांख्यिकी सेवा के लिए जून में लिखित परीक्षा दी। 19 दिसंबर को साक्षात्कार दिया।
  • तीसरे अटेम्प्ट में मिली सफलताइससे पहले 2 बार यही परीक्षा दे चुके थे और दोनों ही बार वे रिटेन क्वालीफाई करने में कामयाब नही हुए। तीसरे बार न केवल उन्होंने रिटेन और इंटरव्यू परीक्षा क्वालीफाई किया पूरे देश में पहली रैंक हासिल किया।
  • अस्तित्व रंजन बताते हैं कि तीसरी बाद में मेरा चयन हुआ है। दोस्तों ने चयनित होने की सूचना दी। मुझे उम्मीद नहीं थी देश में पहली रैंक आ जाएगी। हां, इतना तय था कि चयन हो जाएगा। दिल्ली में रिसर्च कर रहीं बड़ी बहन स्तुति श्रीवास्तव ने इस क्षेत्र में तैयारी के लिए प्रेरित किया।